Home / Business / Indo-German Science & Technology Center to be set up in India

Indo-German Science & Technology Center to be set up in India

[vc_row][vc_column width="1/1"][vc_column_text]Hannover: Joint Statement during the visit of Prime Minister of India to Germany We, the Prime Minister of India and the Federal Chancellor of Germany, met in Hannover and Berlin to exchange views on upgrading and further strengthening our Strategic Partnership. We view each other’s development as mutually reinforcing and offering significant opportunities for expanding cooperation between the two countries. Our common objective is to encourage greater synergies between German engineering, experience in sustainable development, innovation and skills, and the new opportunities available in India and through ‘Make in India’, ‘Clean India’, ‘Digital India’ and other initiatives towards achieving economic growth and sustainable development. India’s participation as Partner Country at Hannover Messe 2015 is a welcome expression of our common desire to strengthen this cooperation. PM-3 We are exploring ways of expanding our dialogue on foreign policy and security issues. We welcome the proposed visits of the Defence Minister of Germany to India and the External Affairs Minister of India to Germany before the Inter-Governmental Consultations. Taking our partnership into the future, we will also work together on meeting global challenges such as climate change, energy and food security. We look forward to our 3rd Inter-Governmental Consultations (IGC) in India in October 2015. Our Strategic Partnership is entering a new and more intensive phase. In order to strengthen this cooperation, we agreed to encourage our respective Ministries/Departments to take proactive steps to advance our collaboration in the following areas. 1. Manufacturing: Utilize the momentum generated by India’s participation in the Hannover Messe to foster stronger ties between business and industry on both sides in order to support India’s ‘Make in India’ initiative. Greater investments, a positive investment climate and technology partnerships are crucial for the success of India’s ‘Make in India’ initiative . 2. Skill Development: Expand existing Indo-German cooperation through new initiatives, including a road-map for enhancing employability of trainees and apprentices by strengthening industry involvement in Skills Development, as in the German dual system. 3. Urban Development: Strengthen the bilateral cooperation through the establishment of a working group on urban development. Support development of urban planning and infrastructure in India, including (a)cooperation in the development of new areas of collaboration and mutual benefit in the development of smart cities in India; (b) Setting up peer-to-peer network of Municipalities for direct collaboration; and (c) Assistance in the area of affordable housing. 4. Environment: Strengthen the bilateral cooperation through the establishment of two working groups in the areas of water and waste management. 5. Railways: Support for the modernization of the railway infrastructure including setting up of semi high-speed and high-speed railways and training and skill development of personnel in the rail sector starting with signalling and telecommunications and a high-speed rail system. 6. Cleaning of Rivers: Following the completion of the Ganga Scoping Mission in October 2014 by Germany, develop cooperation on Ganga River rejuvenation strategies, capacity support for urban sanitation, setting up of standards, approaches to industrial pollution and innovative financial models. 7. Renewable Energy: Support India’s proposed objective of 175GW of renewable energy by 2022 through technical and financial support for developing comprehensive solar rooftop and green energy corridor projects in India. 8. Education: Promote closer educational exchanges, including through setting up of an International Center for Advanced Studies in the Humanities and Social Sciences, strengthening collaboration between universities in India and Germany through the Indo German Strategic Partnerships in Higher Education program, and enhancing the exchange of scientists between both countries, e.g. in the framework of India’s GIAN initiative. 9. Language: Support the respective programs and efforts in India and Germany to broaden knowledge of each other’s languages among the youth in accordance with the national policy of each country. 10. Science and Technology (S&T): Both sides declared their intent to promote closer R&D Cooperation in science, technology and innovation, in particular through extending the tenure of the bi-national Indo-German Science & Technology Center in India with appropriate resources, the cooperation arrangement between Ministry of Earth Sciences, India and Helmholtz Association, Germany for Institutional collaboration in the area of Earth Sciences, and understanding between National Council of Science Museums in India and Leibniz Association, Germany on closer cooperation in science communication. We agree that we strengthen our efforts towards carrying on negotiations for an ambitious EU India Free Trade Agreement with a view to its early conclusion. Our discussions in Germany have established a robust road-map for expanding our multi-faceted and mutually beneficial ties. We are confident that this will receive a further boost during the visit of the German Chancellor to India for the 3rd Inter-Governmental Consultations. PM-2 English Rendering of the Text of Prime Minister’s Remarks to the Media during the Joint Press Statement with German Chancellor Angela Merkel at Berlin Chancellor Merkel, Members of the Media I want to sincerely thank Chancellor Merkel and Germany for the very warm welcome that my delegation and I have received. I am especially grateful that in the first year of my Government, India was chosen as a partner country for the largest industrial trade fair in the world. Chancellor Merkel was generous with her time for me, my delegation and the CEOs of several Indian companies in Hannover. Today, my delegation and I have once again been heartily welcomed in Berlin. I also thank her for the very open, constructive and perceptive discussions on relations between India and Germany. This is a reflection of her deep concern for Germany’s interests and her commitment to India – Germany relations. Yesterday in Hannover, she accepted the invitation of India’s Lion to raise the level of Germany’s engagement in India and assured me of a strong response by Germany’s Eagle. I believe that there will be a strong partnership between the King of the Earth, Lion and the King of the Skies, the Eagle. When I last came to Berlin, Germany was successful in winning the World Cup Final. This time in Berlin, I feel that we will also be successful in taking the strategic partnership between India and Germany to new heights. Whenever anyone in India talks about technology, manufacturing or high quality, Germany is the first country that comes to the mind. So, it is natural that when India has embarked on a new journey for ‘Make in India’ for economic development and employment, we look forward to Germany’s strong partnership. Whatever objectives we think of in terms of economic transformation and improvement in quality of life of ordinary citizens, technology, skills, innovation and investment will play an important role in it. My objective of coming to Germany was not only to invite the German industry to India, but to assure them that they would find an open and stable environment, which would be easy to do business in; and that they will have my full support to invest and work in India. I feel deeply encouraged by the enthusiasm and interest that I have seen in Chancellor Merkel and Germany. Equally, the feedback that I have got will be of great benefit to me in framing our policies. I have also decided that we will establish a mechanism for German companies to facilitate their investment and business in India. Our goal of ‘Make in India’ and creating employment for our youth depends on skill development in our country. Germany is a world leader in this field. India will have to pursue its skill development programme in accordance with its own circumstances. But at the same time, there is a lot that we can learn from Germany. We had a detailed discussion on the subject. Similarly, we intend to further strengthen our close cooperation in the areas of science, technology and education. An area that has great priority for me personally and for my country is renewable energy and energy efficiency. As I have already said, we intend to add 175 Giga Watts of renewable energy during the next seven years. Germany is a strong partner in the development of clean energy. We would also like your cooperation on manufacturing of equipment for clean and renewable energy in India; and enhance our shared efforts to address the challenge of climate change. Development of India as a manufacturing hub and expansion of infrastructure of India would also be beneficial for trade. Our imports would also grow. And, it is natural that German companies would benefit a lot from it. In this context, I would also like to state that negotiations between India and European Union on a Broad-based Trade and Investment Agreement have remained stalled for two years. I have requested Chancellor Merkel that India and European Union should resume the negotiations quickly and conclude a balanced and mutually beneficial agreement at the earliest. We would also like to enhance our cooperation in the area of advanced technology and defence manufacturing. I hope that the German companies would participate enthusiastically in this and that your government would support them fully. Chancellor Merkel and I had also discussed international developments. We in India believe that economic momentum in Europe is important for the global economy and European stability for global peace. The world looks to Germany for leadership in addressing both challenges. I also congratulate her on the successful outcome of talks with Iran. This will be beneficial for the entire region. Instability and violence in West Asia affects the security of our citizens at home. Peaceful and democratic development of Afghanistan is important for both of us. The direction that Asia-Pacific region will take in this century will be of great significance to the entire world. The spread of terrorism is growing and its character is changing. The threat is coming close to us across every region of the world. We need a comprehensive global strategy to deal with this global challenge, in which India and Germany can work together. Equally, in the coming days, maritime cyber and space security would be a matter of concern to everyone and we should increase our cooperation in this area as well. It is my belief that India and Germany are two countries that have earned the right to be permanent members of the United Nations Security Council. Our membership will also be beneficial to the world. We both would like to see tangible progress in the United Nations Security Council reforms during the 70th Anniversary year of the United Nations. We also look forward to a successful outcome of COP-21 in Paris this year. Once again, I would like to thank everyone, especially Chancellor Merkel for a very successful and productive visit and I look forward eagerly to hosting Chancellor Merkel in India in October. PM-4 Text of Prime Minister’s Remarks to the Media during the Joint Press Statement with German Chancellor Angela Merkel at Berlin चांसलर मर्कल, मीडिया के सदस्य मैं चांसलर मर्कल का और जर्मनी का आभार व्यक्त करता हूँ मेरा और मेरी delegation का गरमजोशी और सम्मान की भावना से स्वागत के लिए। और विशेष करके इस लिए कि मेरी सरकार के पहले साल में उन्होंने भारत को विश्व के सबसे बड़े Trade Fair में Partner Country चुना। चांसलर मर्कल ने Hannover में मुझे, मेरे डेलीगेशन और भारत की कई कंपनीज के CEOs के साथ अपना बहुमूल्य समय दिया। और आज फिर से बर्लिन में मेरा और मेरे डेलीगेशन का हार्दिक स्वागत किया। मैं इस बात के लिए धन्यवाद देता हूं कि बड़े खुले मन और गहराई से भारत और जर्मनी के संबंधों के बारे में उन्होंने बातचीत की है। यह उनके जर्मनी के हितों पर ध्यान और भारत और जर्मनी के संबंधों के लिए प्रतिबद्धता का प्रतीक है। और उन्होंने कल Hannover में भारत के Lion के निमंत्रण को स्वीकार किया और आश्वस्त किया कि जर्मनी के ईगल द्वारा उसका ठोस उत्तर देंगी। मेरा विश्वास है कि धरती का राजा, Lion, और आकाश के राजा, eagle, की अच्छी जोड़ी बनेगी। जब मैं पिछली बार बर्लिन आया था तो उस शाम बर्लिन ने world cup final में सफलता प्राप्त की थी। मैं आज यह महसूस कर रहा हूँ कि भारत और जर्मनी की Strategic partnership को एक नयी उँचाई पर ले जाने में हम अवश्य सफल होंगे। भारत में जब कोई Technology, manufacturing या High Quality की बात करता है तो सबसे पहले जर्मनी का नाम ध्यान में आता है। तो यह स्वाभाविक है कि आज भारत जब आर्थिक विकास और रोजगार के लिए Make in India के नये रास्ते पर चला है तो उसे जर्मनी के साथ की अपेक्षा है। आर्थिक परिवर्तन या सामान्य व्यक्ति के जीवन में सुधार के किसी भी उद्देश्य के बारे में सोचें तो उसमें Technology, Skills, Innovation और Investment की बड़ी भूमिका होती है। मेरा जर्मनी आने का उद्देश्य यह था कि मैं जर्मन Industry को भारत में आने के लिए आमंत्रित करूँ और उन्हें आश्वस्त करूँ कि उन्हें एक खुले, आसान और स्थिर आर्थिक माहौल मिलेगा और जिसमें प्रवेश करने में और काम करने में मेरी तरफ से पूरी सहायता मिलेगी। चांसलर मर्कल और जर्मन Industry के उत्साह और रूचि को देखकर मैं बहुत प्रोत्साहित महसूस कर रहा हूँ। उनके फीडबैक से नीतियों को बनाने में मुझे बहुत लाभ होगा। मैंने यह निर्णय किया है कि जर्मन कंपनीस के लिए हम एक mechanism बनाएँगे ताकि उनको भारत में निवेश करने में, business करने में सुविधा हो। भारत का Make in India और हमारे युवाओं को रोजगार Skill Development पर आधारित है। जर्मनी विश्व में इस क्षेत्र में लीडर है। भारत में Skill Development हमें अपनी परिस्थितियों को देखते हुए करनी होगी। साथ ही साथ जर्मनी से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं और इस बारे में विस्तार से बातचीत हुई है। उसी प्रकार Science, Technology और Education में हम और घनिष्ठ संबंध और सहयोग बढ़ायेंगे। एक क्षेत्र, जो मेरे लिए निजी रूप से और देश के लिए बहुत बड़ी प्राथमिकता रखता है वह है Renewable energy और Energy Efficiency । जैसाकि मैंने पहले कहा कि हमने अगले 7 सालों में 175 गीगावाट का Renewable energy का बहुत बड़ा लक्ष्य रखा है। जर्मनी इस क्षेत्र में भारत का बड़े स्तर पर आर्थिक सहयोग कर रहा है। मैं चाहूंगा कि इसके साथ ही साथ जर्मनी, भारत में Clean Energy के उपकरण बनाने में भी आगे बढ़े। और साथ मिलकर climate change की चुनौती का सामना करें। भारत Manufacturing hub बनेगा और Infrastructure का विस्तार होगा तो trade के लिए भी लाभदायक होगा। आयात की जरूरत और बढ़ेगी। और स्वाभाविक है कि इससे जर्मनी की Industry को भी लाभ पहुंचेगा। इस संदर्भ में यह भी कहना चाहता हूं कि भारत और यूरोपीय यूनियन Broad Based Trade और Investment Agreement पर बातचीत दो साल से रूकी हुई है। मैंने चांसलर मर्कल से आग्रह किया है कि भारत और यूरोपीय यूनियन की बातचीत को जल्द से जल्द शुरू किया जाए तथा संतुलित और दोनों पक्षों के लिए लाभदायक FTA संपन्न किया जाए। भारत Advanced Technology और Defence Manufacturing के क्षेत्र में भी सहयोग बढ़ाना चाहता है। आशा करता हूं कि जर्मन इंडस्ट्री इसमें गर्मजोशी से भाग लेंगी और आपकी सरकार से पूरा सहयोग मिलेगा। चांसलर मर्कल और मैंने अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर भी बातचीत की है। भारत में हमारा यह मानना है कि यूरोप की आर्थिक गति वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए और यूरोप में स्थिरता वैश्विक शांति के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इन दोनों चुनौतियों पर जर्मनी के नेतृत्व की विश्व की अपेक्षा है। मैं ईरान से सफल बातचीत के लिए भी आपकी सराहना करता हूं। इससे पूरे क्षेत्र पर सकारात्मक प्रभाव होगा। पश्चिम एशिया में अस्थिरता हमारे नागरिकों की सुरक्षा पर असर करती है। अफगानिस्तान में शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक विकास दोनों के लिए महत्व रखता है। इस शताब्दी में एशिया पैसिफिक क्या दिशा लेता है वह सबके लिए मायने रखता है। आतंक फैल रहा है और नये स्वरूप ले रहा है। इसका खतरा अब विश्व के सभी भूभाग में हम करीब से अनुभव कर रहे हैं। इस वैश्विक चुनौती के लिए व्यापक वैश्विक Strategy की आवश्यकता है। जिसमें भारत और जर्मनी मिलकर काम कर सकते हैं। आने वाले समय में समुद्री, साइबर और अंतरिक्ष सुरक्षा सभी के लिए चिंता का कारण बन सकते हैं और हमें इसमें सहयोग बढ़ाना है। मेरा मानना है कि भारत और जर्मनी दोनों ऐसे देश हैं जिन्हें UN Security Council में स्थाई सदस्यता का अधिकार है और इससे विश्व भी लाभान्वित होगा। हम दोनों चाहते हैं कि 70वीं वर्षगांठ एक उत्तम अवसर बने जिसमें UN Security Council Reform को पूरा किया जा सके। हम दोनों पेरिस में एक सफल COP-21 की अपेक्षा करते हैं। अंत में, मैं एक बार फिर कहना चाहूंगा कि सफल और Productive यात्रा के लिए मैं आप सभी का, विशेष रूप से चांसलर मर्कल का आभार प्रकट करता हूँ। और मैं अक्टूबर में चांसलर मर्कल की भारत की यात्रा का उत्सुकता से इंतज़ार करूंगा। PM’s Reply to the questions during the Joint Press Statement with German Chancellor Angela Merkel at Berlin प्रधानमंत्री की जर्मनी यात्रा से संबंधित प्रश्न का उत्तरः प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी: आज पूरे विश्व का ध्यान भारत की तरफ जा रहा है। भारत दुनिया की सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाली Economy के रूप में उसने अपनी जगह बनाई है। भारत के पास तीन प्रमुख ऐसी सुविधाएं हैं, जो विश्व में किसी के पास नहीं है। Demographic Dividend, Democracy and Demand. और इन तीनों बातों को देखें तो भारत में manufacturing hub बनने की पूरी संभावना है। जहां low cost manufacturing हो, “zero defect-zero effect” के साथ हो और दुनिया के सभी investors के लिए भारत एक ऐसी जगह है कि जहां पर विपुल मात्रा में work force है। जहां बहुत बड़ी मात्रा में domestic मांग है और जहां की democratic values हैं। जो जर्मनी और भारत दोनों समान रूप से share करते हैं। तो एक ऐसा माहौल है कि जिसके कारण विश्व के अनेक देशों को और जर्मनी को विशेष रूप से भारत अनुकूल है। जर्मनी की ताकत है manufacturing, विश्व की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए German companies और भारत देश का माहौल, ये दोनों मिलकर के काम करे तो विश्व की अनेक आवश्यकताओं को हम बहुत अच्छे ढंग से पूरा कर सकते हैं। भारत का work force जो कि इस manufacturing sector में तैयार होगा। वो आने वाले दिनों में एक world work force के रूप में convert हो सकता है। भारत में रोजगार, ये सबसे बड़ी आवश्यकता है और इसलिए हमारा ध्यान manufacturing hub बनाने की दिशा में है। Hannover fair में जितनी कंपनियां मिलीं बाद में चांसलर मर्केल ने एक शाम डिनर रखा था, यहां के industrial houses के साथ, उसमें भी विस्तार से चर्चा हुई है और मैं देख रहा हूं कि चाहे skill development का काम हो, चाहे vocational education की बात हो, चाहे railway में technology up-gradation हो, expansion हो, Defence manufacturing sector का काम हो, engineering sector की विकास की नई क्षितिज हो, सभी क्षेत्रों में आज German कंपनियां, भारत के साथ मिलकर के काम करने के लिए तैयार हैं। और मेरी और चांसलर मर्केल के बीच जो बातचीत हुई है, उसके कारण इन कंपनियों का भी विश्वास बढ़ा है और उन कंपनियों का भी विश्वास बढ़ा है। मुझे लगता है कि आने वाले दिनों में human resource development का काम हो, professional management का काम हो, manufacturing की दिशा में आगे बढ़ने की बात हो, सभी क्षेत्रों में जर्मनी और भारत सफलतापूर्वक आगे बढ़ेंगे, इस विश्वास के साथ मैं आज यहां से लौट रहा हूं। वैश्विक आतंकवाद के मुद्दे से संबंधित प्रश्न का उत्तरः प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी: मैं मानता हूं कि terrorism ये मानवता के लिए एक बहुत बड़ा खतरा है। जो भी मानवतवाद में विश्वास करते हैं। उनकी भाषा कोई भी हो, भू-भाग कोई भी हो, परंपराएं कोई भी हो लेकिन मानवतावादी शक्तियों का एक होना बहुत आवश्यक है और सभी मानवतावादी शक्तियों ने आतंकवाद के खिलाफ एक स्वर से, एक ही intensity के साथ बोलने की आवश्यकता है, collectively efforts करने की आवश्यकता है। और हम देख रहे हैं आज से 25 साल पहले हम भारत के लोग दुनिया को आतंकवाद के खतरे की बात बताते थे तो कुछ लोग हमें कहते थे, ये आपका law and order problem है। आज दुनिया को समझ आया है कि कितना भयंकर रूप होता है और ये मानवता के खिलाफ एक लड़ाई है। जब तक हम मानवतावादी शक्तियों को एकत्र नहीं करते हैं और हम आतंकवाद के सामने समान रूप से व्यवहार नहीं करते हैं, उनको खुला मैदान मिल जाता है। उनको शस्त्र जहां से मिलते हो, उस पर से रोक कैसे लगे? आतंकवादियों को shelter देने वाली अगर सरकारें हैं तो उन सरकारों पर दबाव कैसे पैदा किया जाए? जितनी sensitivity nuclear weapon को लेकर के है, उतनी ही आतंकवाद को पनाह देने वालों देशों के प्रति भी होनी चाहिए। अगर ये ही एक मूड बनता है और हम आतंकवाद को और आतंकवाद को समर्थन करने वालों को isolate करना ये हमारी पहली strategy होनी चाहिए और दुनिया इस पर गंभीरता से सोचेगी। दूसरा महत्वपूर्ण काम है United Nation में बहुत लंब अर्से से एक प्रस्ताव चर्चा पर pending पड़ा हुआ है। जिसमें आतंकवाद की definition होना बहुत आवश्यक है। मैं चाहूंगा कि जब United Nation अपने 70 साल पूर्ण करने जा रहा है। उस resolution को पारित करे, define करे और दुनिया के लोगों के लिए बंधनकर्ता चीजों का regulation तैयार करे। तब जाकर के एक platform पर से इस मानवता विरोधी पृवत्तियों के खिलाफ दुनिया को एकत्र किया जा सकता है। मैं चांसलर मर्केल के विचारों से परिचित हूं। वे आतंकवाद के खिलाफ उतने ही स्पष्ट विचार रखती हैं, जितना कि हम भारत के लोग पिछले 30 साल से आतंकवाद से परेशान हैं। हम अनुभव करते हैं और मैं मानता हूं कि अब पूरी दुनिया, जिस प्रकार से आतंकवाद फैल रहा है और अधिक सजग बनकर के और अधिक साथ मिलकर के इस मानवता की रक्षा के लिए काम करेंगी। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में, भारत की स्थायी सदस्यता से संबधित प्रश्न का उत्तर: प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी: एक विषय जो आपने पूछा है permanent membership, security council में, मैं दुनिया का इस बात की ओर ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं। आप जानते हैं कि ये वर्ष UN के 70 साल हो रहे हैं और पूरा विश्व ये वर्ष प्रथम विश्व युद्ध की शताब्दी के वर्ष से गुजर रहा है। विश्व को मालूम होना चाहिए कि भारत के सैनिक प्रथम विश्व युद्ध में 75 thousand से ज्यादा सैनिक शहीद हुए थे और प्रथम विश्व युद्ध में 14 लाख से ज्यादा भारत के सैनिकों को हिस्सा लेना पड़ा था। उसमें भारत का कोई हित नहीं था, भारत की कोई योजना नही थी। UN के बाद आप देखिए Peace Keeping Force, सबसे ज्यादा सैनिक Peace Keeping Force में जो राष्ट्र भेजे जाते हैं, उनमें एक नाम भारत का है। Peace Keeping Force में भी UN के मार्गदर्शन में उत्तम से उत्तम कार्य करने के लिए बार-बार भारत की सराहना होती है और भारत जिसका इतिहास और संस्कृति कभी भी ये वो देश जिसने युद्ध नहीं किया है, आक्रमण नहीं किया है। वो देश जहां अहिंसा के दूत महात्मा गांधी पैदा हुए थे, वो देश जहां गौतम बुद्ध पैदा हुए थे, जहां की संस्कृति, परंपरा, शांति को समर्पित है, उस देश को अगर United Nation में permanent membership security council न मिले, उसके लिए 70 साल तक उसको इंतजार करना पड़े, तब सवाल उठता है कि शांति पर भरोसा करने वाले, शांति के लिए जीने वाले, शांति जिनके DNA में है, ऐसे देश के प्रति अब न्याय होना चाहिए, समय बहुत चला गया है।[/vc_column_text][/vc_column][/vc_row]

About Sanjay Trivedi

Sanjay Trivedi is honorary editor of Asia Times. He is senior Indian Journalist having vast experience of 25 years. He worked in Janmabhoomi, Vyapar, Divya Bhaskar etc. newspapers and TV9 Channel as well as www.news4education.com. He also served as Media Officer in Gujarat Technological University.

Check Also

Japan to provide help of Rs. 1600 Crore for Gujarat infrastructure development

The Prime Minister of Japan, Mr. Shinzo Abe being welcomed by the Prime Minister, Shri …