Home / Business / May 2017 be a year full of joy and enthusiasm

May 2017 be a year full of joy and enthusiasm

English rendering of the text of PM’s ‘Mann Ki Baat’ address on All India Radio on 25.12.2016


My fellow countrymen, Namaskar, many felicitations and season’s greetings to you on the occasion of Christmas. Today is the day to give importance in our lives to service, sacrifice and compassion. Jesus had said - “The poor do not need our favours but our acceptance with affection.” In the Gospel According to Saint Luke, it is written that – “Jesus not only served the poor but also praised the service done by the poor,” and this is what real empowerment is. A tale associated with this incident is also very popular. It has been mentioned in that story that Jesus was standing near the treasury of a temple; many rich people came and donated bountifully; then a poor widow came and parted with only two copper coins. Now just two copper coins really do not amount to much. Thus it was natural that there was a lot of curiosity in the minds of the disciples gathered there. Then, Jesus declared that the widow was the greatest of those donors because while the others had donated substantially, that widow had given away all she possessed.

Today, 25th December, is also the birth anniversary of Mahamana Madan Mohan Malviyaji, who kindled resolve and self confidence in the psyche of the Indian people and gave a new direction to modern education. My most sincere and heartfelt tributes to Malviyaji on his birth anniversary. About two days ago, I had the opportunity to launch many a developmental work in Banaras, the sacred workplace of Malviyaji. I also laid the foundation stone of Mahamana Madan Mohan Malviya Cancer Centre in BHU at Varanasi. This Cancer Centre is going to be a boon for the people of not only eastern Uttar Pradesh but for the people of Jharkhand and Bihar also.

Today is also the birthday of Bharat Ratna and former Prime Minister Venerable Atal Bihari Vajpayee Ji. This country can never forget Atalji’s contributions. Under his leadership, the country proudly grew in stature in the field of nuclear power also. Whether in the role of a party leader, Member of Parliament, a minister or the Prime Minister, Atalji always established an ideal. I salute Atalji on his birthday and pray to God for his good health. As a party worker I had the privilege of working with Atalji. Many memories emerge before my eyes. This morning when I tweeted, I shared a video, in which you can see for yourself how as a small party worker one had the fortune of having affection showered upon him by Atalji.

Today, on Christmas Day, as a gift the countrymen are going to get the benefit of two schemes. In a way it is the beginning of two new schemes. Throughout the entire country, be it villages or towns, the educated or the illiterate, there is an atmosphere of curiosity as to what is cashless, how cashless business can take place, how can one make purchases without using cash! Everybody wants to understand and learn from each other. To encourage this trend, to strengthen mobile banking and to inculcate the habit of making e-payments, the Government of India is launching from today encouragement schemes for consumers as well as traders. To encourage customers, the scheme is ‘Lucky Grahak Yojana’ and to encourage traders the scheme is ‘Digi Dhan Vyapaar Yojana’.

Today, on 25th December, as a Christmas gift, fifteen thousand people will get rewards through a draw system, whereby each of the fifteen thousand winners will have one thousand rupees into their accounts and this will be not for today only; starting today this scheme will continue for the next 100 days. Everyday fifteen thousand people are going to receive rewards of one thousand rupees each. In the next 100 days, lakhs of families are going to receive crores of rupees as gift, but you will be entitled to this gift only if you make use of mobile banking, e-banking, RuPay Card, UPI, USSD - such means and methods of digital payment. The draw for rewards will be done based on your use of such digital payment methods. In addition, there would be a grand draw once every week for such customers in which the prize money will be in lakhs of rupees and three months later on April 14th, on the occasion of the birth anniversary of Dr. Baba Saheb Ambedkar, there would be a mega bumper draw where rewards would be in crores of rupees.

‘Digi Dhan Vyapar Yojana’ is mainly for traders and businessmen. Traders should adopt this scheme themselves and should encourage their customers too in order to make their business cashless. Such traders will also be rewarded separately and there would be thousands of these rewards. The traders will run their business activities smoothly and will also have an opportunity to win rewards. This scheme has been designed keeping all sections of society in mind, with a special focus on the poor and the lower middle class segments. Therefore only those will get its benefits who make a purchase worth more than 50 rupees but less than three thousand rupees. Those who make purchases of more than three thousand rupees will not be entitled to rewards under this scheme.

Even the poor people can use USSD on simple feature or ordinary mobile phones to buy and sell goods as well as make payments and thus all of them can also become prospective beneficiaries of this reward scheme. In rural areas too, people can buy or sell through AEPS and they can also win rewards. Many will be surprised to know that now there are about 30 Crore, i.e. 300 million RuPay Cards in India, out of which 200 million RuPay Cards belong to poor families which have ‘Jan Dhan’ accounts. These 300 million people can immediately become part of this rewards scheme. I have confidence that the countrymen will evince interest in this system and if you enquire from the young people around you, they would surely be aware of these things and on your asking will tell you about these. Come on, if there is a child studying in 10th or 12th standard in your family, he or she will also be able to teach you well about this. It is as simple as sending WhatsApp messages on the mobile.

My dear countrymen, I feel delighted to learn that the awareness about how to use technology, making e-payments, making online payments is spreading very fast. During the past few days, the cashless transactions, or cashless trading has increased by 200 to 300%. To give cashless trading a big impetus, Government of India has taken a very major decision. The business community, our traders can well comprehend how momentous this decision is. Those businessmen who adopt digital transactions, who develop online payment process instead of cash transactions in their trade activities will get Income Tax rebate.

I congratulate all the states and union territories, who have promoted this campaign in their own way. The Chief Minister of Andhra Pradesh, Mr. Chandrababu Naidu is the head of a committee which is considering various schemes under this. However, I have seen that the governments also have initiated and implemented many schemes. I’ve been told that Assam Government has decided to grant a 10% discount on property tax and business license fee if payments are made through digital transaction. The branches of Grameen, that is, Rural Banks there getting 75% of their customers to make at least two digital transactions between January and March will get 50 thousands rupees rewards from the government. They have announced that under the ‘Uttam Panchayat for Digi-Transaction’, rewards of 5 lakh rupees will be given to villages doing 100% digital transaction till 31st March, 2017. Assam Government has decided to reward 5 thousand rupees to the first 10 farmers as ‘Digital Krishak Shiromani’, who will buy seeds and fertilizers entirely through digital payments. I congratulate Assam Government and also all those state governments who have taken such initiatives.

A number of organisations have also successfully carried out many experiments to promote digital transactions amongst the rural folk and poor farmers. I have been told that GNFC or Gujarat Narmada Valley Fertilizers & Chemicals Limited, which primarily manufactures fertilizers, has installed a thousand PoS machines for sale of fertilizers for the convenience of farmers and in just a few days 35 thousand farmers were sold 5 lakh sacs of fertilizers on digital payment and this was accomplished in only two weeks! And the interesting fact is that compared to last year the fertilizer sales of GNFC have gone up by 27 percent.

Brothers and sisters, the informal sector occupies a major segment in our economy and in our pattern of life and mostly these people are paid wages for their labour and hard work in cash. They are paid their salaries in cash and we know that due to this, they are exploited also. If they are to receive 100 rupees, they get only 80 rupees, if they are to be paid 80 rupees, they are given only 50 rupees. They are deprived of facilities like insurance and those associated with health sector. But now the practice of cashless payment is being adopted; the money is being directly deposited into banks. In a way, the informal sector is getting converted into the formal sector, exploitation is coming to an end, the cut, which had to be paid earlier, has stopped now and it has become possible for the worker, the artisan, such poor persons to get their full amount of money. In addition, they are also becoming entitled to the other benefits due to them.

Our country is blessed with the maximum number of young people. Thus, we are favourably placed for using technology. A country like India should be ahead of everybody else in this field. Our youth have benefitted quite a lot from ‘Start-Ups’. This digital movement is a golden opportunity for our youth. They should impart to this as much strength as they can with their new ideas, technology and processes. But we must also connect with the drive to rid the country of black money and corruption with all our might.

My dear countrymen, I request every month before ‘Mann Ki Baat’ that you please give your suggestions, share your thoughts; and of the thousands of such suggestions received this time on MyGov, on NarendraModiApp, I can definitely say that 80 to 90% suggestions were pertaining to the war against corruption and black money, there was mention of demonetization. After I examined all the suggestions, I can say that these can macroscopically be roughly divided into three categories. Some have written in detail about people facing difficulties and encountering inconveniences. The other group of correspondents have stressed that this is such a good work being carried out for the welfare of the country, such a sacred task but they have also noted that in spite of this there are many scams being committed and new avenues of dishonesty are being explored. The third group is the one which has, while wholeheartedly supporting the action being taken, clearly stressed that this fight must be carried forward; corruption and black money must be completely destroyed and if this requires even more tough steps to be taken, those must be taken. We have many people writing this most emphatically. I am thankful to the countrymen for helping me by writing these innumerable letters to me. Shriman Gurumani Kewal has written on MyGov - “This step of reigning in black money is praiseworthy. We citizens are facing some difficulties, but we are all fighting against corruption and we are happy that we are making a contribution in this fight. We are battling corruption, black money etc on the lines of Military Forces.” The sentiment behind Gurumani Kewalji’s text is being echoed in every nook and corner of the country. All of us are experiencing it. When the people face problems, undergo hardships, rare will be a fellow human being who will not empathise. I feel as much pain as you do. But when a task is taken up with a noble objective, to realise a lofty intent, with a clear conscience, the countrymen stay firm courageously amidst all these trials and tribulations. These people are the real Agents of Change, pioneers of transformation. I thank people for one more reason. They have not only braved hardships, but have also powerfully given a retort to those limited few who have been trying to mislead them.

So many rumours were spread, even the fight against corruption and black money was sought to be tainted with shades of communalism. Somebody spread a rumour that the spelling on the currency note was faulty, someone said salt prices had spiraled, someone proclaimed that the 2000 rupee note would also be withdrawn, even 500 and 100 rupee denominations notes were rumoured to be on their way out. But I have seen that despite rampant rumour mongering, citizens have stood firm with their faith intact. And not just that, many people came to the fore and through their creativity and intelligence, exposed the rumour mongers, brought out the falsity of the rumours and established the truth. I salute this great ability of the people also from the core of my heart.

My dear countrymen, I am experiencing one thing every moment. When a hundred and twenty five crore countrymen are standing by you, nothing is impossible. The people represent the will of the Almighty and their blessings become His blessings. I thank the people of this country and salute them for participating in this Mahayagya against black money and corruption with utmost zeal. It was my earnest wish that the ongoing campaign against corruption and black money, including the realm of political parties and political funding, be discussed extensively in the Parliament. Had the House functioned properly, there would have been comprehensive deliberation. Some people are spreading rumours that political parties enjoy all kinds of concessions. These people are absolutely in the wrong. The law applies equally to all. Whether it is an individual, an organisation or a political party, everyone has to abide by law and one will have to. People, who cannot endorse corruption and black money openly, resort to searching for faults of the government relentlessly.

Another issue which comes up is this. Why are rules changed time and again? This government is for the sake of the people. The government continuously endeavours to take a feedback from them. What are the areas of difficulty for the people? What are the rules that are creating hindrances? And what are the possible solutions? The government, being a sensitive government, amends rules as required, keeping the convenience of the people as its foremost consideration, so that citizens are not subjected to hardships. On the other hand, as I’d said earlier, on the 8th to be precise, this drive, this war is an extraordinary one. For the past 70 years, what kind of forces are involved in this murky enterprise of perfidy and corruption? How mighty are they? When I have resolved to wage battle against them, they too come up with new tactics everyday to thwart the government’s efforts. To counter these new offensives, we too have to devise appropriate new responses and antidotes. When the opponents keep on trying out new tactics, we have to counteract decisively, since we have resolved to eradicate the corrupt, shady businesses and black money.

On the other hand, many people have mentioned in their letters all kinds of wrongdoing which are going on; how newer wily ways and means are being devised. In this context, I offer my heartiest salutations to my dear countrymen for one very remarkable thing. These days you must be seeing on T.V. and newspapers, everyday many new people are being taken into custody, currency notes are being seized, raids are being carried out. Influential persons are being caught. How has all this been made possible? Should I let out the secret? The secret is that my sources of such information are people themselves. Information being received from common citizens is many times higher than that being obtained through government machinery. And we are by and large being successful in our operations on account of the awareness and alertness that the people have displayed. Can anyone imagine the level of risk, which the aware citizen of my country is taking to expose such elements! The information received has largely proved to be fruitful. For those of you wanting to share such information, you can send it on an e-mail address set up by the government for this purpose. You can also provide it on MyGov. The government is committed to fight all such wrongdoings and maladies. And when we have your active support, this fight becomes much easier.

Thirdly, there is another group of letter writers, also existing in large numbers. They say - Modiji, do not feel exhausted, do not stop and take the most stringent measures that you can. Now that you have chosen this path, the journey should culminate at its intended and logical destination. I specially thank writers of such letters, since their writing exudes a certain confidence, fortified with blessings. I sincerely assure you that this is in no way going to be a full stop. This is just the beginning. We have to win this battle and the question of feeling exhausted or stopping simply does not arise. Armed with the good wishes of a hundred and twenty five crore countrymen, there is no question of a retreat. You are possibly aware of a Law about Benami Property in our country which came into being in 1988, but neither were its rules ever framed, nor was it notified. It just lay dormant gathering dust. We have retrieved it and turned it into an incisive law against ‘Benami Property’. In the coming days, this law will also become operational. For the benefit of the Nation, for the benefit of the people, whatever needs to be done will be accorded our top priority.

My dear countrymen, I had mentioned in last month’s ‘Mann Ki Baat’ that even amidst these hardships our farmers toiled tirelessly and broke last year’s record in sowing. It is a sign of good times for the agricultural sector. The diligent hard work by this country’s workers, and farmers, and youth has scripted a new chapter of success with flying colours. Recently India proudly inscribed her name in various sectors of the global economic scenario. It is solely on account of the tireless exertions of our countrymen that on myriad indicators, India has charted an upward trajectory in global rankings. India’s ranking has gone up in the Doing Business Report of the World Bank. We are trying our best to raise the level of the business practices in India to match the best practices in the world on equal footing. And we are succeeding in that. In the World Investment Report released by UNCTAD, India’s position has risen to third in the Top Prospective Host Economies for 2016-18. In the Global Competitive Report of the World Economic Forum, India has made a big leap upwards by 32 ranks. In the Global Innovation Index 2016, we have moved up 16 rungs and in the Logistics Performance Index 2016 of the World Bank, we have risen by 19 ranks. There are many reports whose evaluation indicate that India is taking rapid strides ahead.

My dear countrymen, this time the session of Parliament became the object of ire of our countrymen. Indignation was expressed everywhere about the activities in the Parliament. The President and Vice President also explicitly expressed their displeasure. But even in such a situation, sometimes good things also take place which create a sense of satisfaction in the mind. Amid the din in Parliament, an excellent task was accomplished, which has not attracted due attention of the country. Brothers and sisters, today with pride and joy I would like to mention that a bill in connection with my government’s mission on Divyangjan, that is, differently or specially abled people was passed in Parliament. For this, I extend my heartfelt gratitude to all the members of Lok Sabha and Rajya Sabha. On behalf of millions of Divyangjan of the country I express my thanks. Our government is committed to the welfare of Divyaangs. Personally too, I have strived to lend momentum to this campaign. My intention was to ensure that the Divyangjan secure their due rights and also the honour and dignity that they are entitled to. Our efforts and our trust were fortified by our Divyaang brothers and sisters when they returned with 4 medals from the Paralympics. With their triumph, not only did they do the Nation proud, they pleasantly surprised many people through their capabilities and prowess. Our Divyaang brothers and sisters are an invaluable heritage, a precious endowment, just as every citizen of the country is. Today I am immensely delighted that the passing of this Law for the welfare of the Divyaangjan will open up additional avenues of employment for them. In government jobs, the extent of reservation for them has been enhanced to 4%. Special provisions have been provided for in this Law for their education, facilities and also for grievances. The extent of sensitivity of the government towards the Divyaangs can be assessed by the fact that during the last two years, the central government set up 4350 camps for Divyaangs, spent 352 crore rupees for distributing implements to 5,80,000 Divyaang brothers and sisters. The government has passed the new law in consonance with the spirit expressed by the United Nations. Earlier there were seven Divyaang categories; now adding fourteen new categories this has been expanded to twenty-one categories. Many such new categories of Divyaangs have been included thereby providing them for the first time justice and opportunities. For example, categories like Thalassemia, Parkinson’s, or for that matter Dwarfism have been included.

My young friends, during the last few weeks, news items coming in from the world of sports have made all of us proud. Being Indians, it is but natural for us to feel elated. In the cricket series against England, India has triumphed 4-0. In this, the performance of some of the younger players deserves a special word of praise. The young Karun Nair scored a triple century and K. L. Rahul played a brilliant 199 run innings. Test captain Virat Kohli batted extremely well and also provided inspiring leadership. Indian Cricket team’s off-spin bowler R. Ashwin has been declared ‘Cricketer of the Year’ as well as ‘Best Test Cricketer’ by the ICC for the year 2016. My heartiest congratulations and many good wishes go to all of them. After a gap of 15 years, there was good news, in fact grand news from the hockey arena too. The Junior Hockey Team lifted the World Cup. This festive occasion came to us after fifteen years as the Junior Hockey team won the World Cup. Heartiest congratulations to these young players for this grand feat. This achievement is a very good omen for the future of our Hockey team. Last month our Women players too won laurels. Indian Women’s Hockey Team won the Asian Champions Trophy and just a few days ago in the under-18 Asia Cup, Indian Women’s Hockey Team secured the Bronze Medal. I congratulate all our Cricket and Hockey team players from the core of my heart.

My dear countrymen, may 2017 be a year full of joy and enthusiasm; may all your resolves be crowned with success; let us scale newer heights of progress; may the poorest of the poor get an opportunity to lead a better and fuller life of happiness and contentment; may 2017 be like this for all of us. For the year 2017, my best and brightest wishes to all my countrymen. Many, many thanks.


मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार। आप सभी को क्रिसमस की अनेक-अनेक शुभकामनायें। आज का दिन सेवा, त्याग और करुणा को अपने जीवन में महत्व देने का अवसर है। ईसा मसीह ने कहा “गरीबों को हमारा उपकार नहीं, हमारा स्वीकार चाहिये”। Saint Luke के Gospel में लिखा है “जीसस ने न केवल गरीबों की सेवा की है, बल्कि गरीबों के द्वारा की गयी सेवा की भी सराहना की है” और यही तो असली empowerment है। इससे जुड़ी एक कहानी भी बहुत प्रचलित है। उस कहानी में बताया गया है कि जीसस एक temple treasury के पास खड़े थे। कई अमीर लोग आए, ढेर सारे दान दिए। उसके बाद एक ग़रीब विधवा आई और उसने दो तांबे के सिक्के डाले। एक तरह से देखा जाए दो तांबे के सिक्के, कुछ मायने नहीं रखते। वहाँ खड़े भक्तों के मन में, कौतुहल होना बड़ा स्वाभाविक था, तब जीसस ने कहा, कि उस विधवा महिला ने सबसे ज्यादा दान किया है, क्योंकि औरों ने बहुत कुछ दिया, लेकिन इस विधवा ने तो अपना सब कुछ दे दिया है।

आज 25 दिसम्बर, महामना मदन मोहन मालवीय जी की भी जयन्ती है। भारतीय जनमानस में संकल्प और आत्मविश्वास जगाने वाले मालवीय जी ने आधुनिक शिक्षा को एक नई दिशा दी। उनकी जयन्ती पर भाव-भीनी श्रद्धांजलि। अभी दो दिन पहले, मालवीय जी की तपोभूमि बनारस में मुझे कई सारे विकास के कार्यों का शुभारम्भ करने का अवसर मिला। मैंने वाराणसी में, BHU में, महामना मदन मोहन मालवीय Cancer Centre का भी शिलान्यास किया है। इस पूरे क्षेत्र में निर्माण हो रहा है एक Cancer Centre. न सिर्फ़ पूर्वी उत्तर-प्रदेश, लेकिन, झारखण्ड-बिहार तक के लोगों के लिये एक बहुत बड़ा वरदान होगा।

आज, भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी का भी जन्मदिन है। ये देश अटल जी के योगदान को कभी नहीं भुला सकता। उनके नेतृत्व में हमने परमाणु शक्ति में भी, देश का सिर ऊपर किया। पार्टी नेता हो, संसद सदस्य हो, मंत्री हो या प्रधानमंत्री, अटल जी ने प्रत्येक भूमिका में, एक आदर्श को प्रतिष्ठित किया। अटल जी के जन्मदिन पर मैं उनको प्रणाम करता हूँ और उनके उत्तम स्वास्थ्य के लिये ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ। एक कार्यकर्ता के नाते अटल जी के साथ कार्य करने का सौभाग्य मिला। अनेक स्मृतियाँ आँखों के सामने उभर करके आती हैं। आज सुबह-सुबह जब मैंने tweet किया तो एक पुराना video भी मैंने share किया है। एक छोटे कार्यकर्ता के रूप में अटल जी का स्नेह-वर्षा का सौभाग्य कैसा मिलता था, उस video को देख करके ही पता चलेगा।

आज क्रिसमस के दिन, सौगात के रूप में, देशवासियों को दो योजनाओं का लाभ मिलने जा रहा है। एक प्रकार से दो नवतर योजनाओं का आरम्भ हो रहा है। पूरे देश में, गाँव हो या शहर हो, पढ़े लिखे हो या अनपढ़ हो, cashless क्या है! Cashless कारोबार कैसे चल सकता है! बिना cash खरीदारी कैसे की जा सकती है! चारों तरफ़ एक जिज्ञासा का माहौल बना है। हर कोई एक-दूसरे से सीखना-समझना चाहता है। इस बात को बढ़ावा देने के लिये, mobile banking को ताक़त मिले इसलिये, e-payment की आदत लगे इसलिये, भारत सरकार ने, ग्राहकों के लिये और छोटे व्यापारियों के लिये ‘प्रोत्साहक योजना’ का आज से प्रारंभ हो रहा है। ग्राहकों को प्रोत्साहन करने के लिये योजना है - ‘lucky ग्राहक योजना’ और व्यापारियों को प्रोत्साहन करने के लिये योजना है - ‘Digi धन व्यापार योजना’। आज

25 दिसम्बर को क्रिसमस की सौगात के रूप में, पंद्रह हज़ार लोगों को draw system से ईनाम मिलेगा और पंद्रह हज़ार के हर-एक के खाते में एक-एक हज़ार रूपये का ईनाम जाएगा और ये सिर्फ़ आज एक दिन के लिये नहीं है, ये योजना आज से शुरू हो करके 100 दिन तक चलने वाली है। हर दिन, पंद्रह हज़ार लोगों को एक-एक हज़ार रूपये का ईनाम मिलने वाला है। 100 दिन में, लाखों परिवारों तक, करोड़ों रुपयों की सौगात पहुँचने वाली है, लेकिन, ये ईनाम के हक़दार आप तब बनेंगे जब आप mobile banking, e-banking, RuPay Card, UPI, USSD ये जितने digital भुगतान के तरीक़े हैं उनका उपयोग करोगे, उसी के आधार पर draw निकलेगा। इसके साथ-साथ ऐसे ग्राहकों के लिये सप्ताह में एक दिन बड़ा draw होगा जिसमें ईनाम भी लाखों में होंगे और तीन महीने के बाद, 14 अप्रैल डॉक्टर बाबा साहेब आंबेडकर की जन्म जयन्ती है उस दिन एक bumper draw होगा जिसमें करोड़ों के ईनाम होंगे। ‘Digi धन व्यापार योजना’ प्रमुख रूप से व्यापारियों के लिये है। व्यापारी स्वयं इस योजना से जुडें और अपना कारोबार भी cashless बनाने के लिए ग्राहकों को भी जोड़ें। ऐसे व्यापारियों को भी अलग़ से ईनाम दिये जाएँगे और ये ईनाम हज़ारों की तादात में हैं। व्यापारियों का अपना व्यापार भी चलेगा और ऊपर से ईनाम का अवसर भी मिलेगा। ये योजना, समाज के सभी वर्गों, खास करके ग़रीब एवं निम्न मध्यम-वर्ग, उनको केंद्र में रख करके बनायी गई है और इसलिये जो 50 रूपये से ऊपर खरीदते हैं और तीन हज़ार से कम पैसों की खरीदी करते हैं, उन्हीं को इसका लाभ मिलेगा। तीन हज़ार रुपये से ज़्यादा खरीदी करने वाले को इस ईनाम का लाभ नहीं मिलेगा। ग़रीब से ग़रीब लोग भी USSD का इस्तेमाल कर feature फोन, साधारण फोन के माध्यम से भी सामान खरीद भी सकते हैं, सामान बेच भी सकते हैं और पैसों का भुगतान भी कर सकते हैं और वे सब इस ईनाम योजना के लाभार्थी भी बन सकते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोग AEPS के माध्यम से खरीद-बिक्री कर सकते हैं और वे भी ईनाम जीत सकते हैं। कइयों को आश्चर्य होगा, भारत में आज लगभग 30 करोड़ RuPay Card हैं, जिसमें से 20 करोड़ ग़रीब परिवार जो जन-धन खाता वाले लोग हैं, उनके पास है। ये 30 करोड़ लोग तो तुरंत इस ईनामी योजना का हिस्सा बन सकते हैं। मुझे विश्वास है कि देशवासी इस व्यवस्था में रुचि लेंगे और आपके अगल-बगल में जो नौजवान होंगे, वो ज़रूर इन चीज़ों को जानते होंगे, आप थोड़ा सा उनको पूछोगे वो बता देंगे। अरे, आपके परिवार में भी 10वीं-12वीं का बच्चा होगा, तो वो भी भली-भाँति चीज़ आपको सिखा देगा। ये बहुत सरल है - जैसे आप मोबाइल फोन से WhatsApp भेजते हैं न उतना ही सरल है।

मेरे प्यारे देशवासियो, मुझे ये जान करके ख़ुशी होती है कि देश में technology का उपयोग कैसे करना, e-payment कैसे करना, online payment कैसे करना, इसकी जागरूकता बहुत तेज़ी से बढ़ रही है। पिछले कुछ ही दिनों में cashless कारोबार, बिना नगद का कारोबार, 200 से 300 प्रतिशत बढ़ा है। इसको बढ़ावा देने के लिये भारत सरकार ने एक बहुत बड़ा फैसला लिया है। ये फैसला कितना बड़ा है इसका अंदाज़ तो व्यापारी बहुत अच्छी तरह लगा सकते हैं। जो व्यापारी digital लेन-देन करेंगे, अपने कारोबार में नगद के बज़ाय online payment की पद्धति विकसित करेंगे, ऐसे व्यापारियों को Income Tax में छूट दे दी गई है।

मैं देश के सभी राज्यों को भी बधाई देता हूँ। Union Territory को भी बधाई देता हूँ। सबने अपने-अपने प्रकार से इस अभियान को आगे बढ़ाया है। आंध्र के मुख्यमंत्री श्रीमान् चंद्रबाबू नायडू की अध्यक्षता में एक committee भी बनाई है, जो इसके लिये अनेक योजनाओं पर विचार कर रही है, लेकिन मैंने देखा कि सरकारों ने भी अपने तरीक़े से कई योजनाएँ लागू की है, आरंभ की है। किसी ने मुझे बताया की असम सरकार ने property tax और व्यापार license fee का digital भुगतान करने पर 10 फ़ीसदी छूट देने का निर्णय किया है। ग्रामीण बैंको के branch अपने 75% उपभोक्ता से जनवरी से मार्च के बीच कम से कम दो digital transaction करवाते हैं, तो उन्हें सरकार की ओर से 50 हज़ार रूपये ईनाम मिलने वाले हैं। 31 मार्च 2017 तक अगर 100% digital transaction करने वाले गाँवों को सरकार की ओर से Uttam Panchayat for Digi-Transaction के तहत 5 लाख रुपये का ईनाम देने की उन्होंने घोषणा की है। उन्होंने किसानों के लिये Digital Krishak Shiromani असम सरकार ने ऐसे पहले 10 किसानों को 5 हज़ार रुपया ईनाम देने का निर्णय किया है जो बीज और खाद की ख़रीद के लिए पूरी तरह digital भुगतान का इस्तेमाल करते हैं। मैं असम सरकार को बधाई देता हूँ लेकिन इस प्रकार से initiative लिये सभी सरकारों को बधाई देता हूँ। कई Organisations ने भी गाँव ग़रीब किसानों के बीच digital लेन-देन को बढ़ावा देने के कई सफल प्रयोग किये हैं। मुझे किसी ने बताया GNFC Gujarat Narmada valley Fertilizer और Chemical limited जो मुख्यतः खाद का काम करता है, उन्होंने किसानों को सुविधा हो इसलिये एक हज़ार Pose Machine खाद जहाँ बेचते हैं, वहाँ लगाए हैं और कुछ ही दिनों में 35 हज़ार किसानों को 5 लाख खाद के बोरे digital भुगतान के माध्यम से कर दिये और ये सब सिर्फ दो हफ्ते में किया है। और मज़ा यह है कि पिछले वर्ष की तुलना में GNFC की खाद की बिक्री में 27 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है।

भाइयो-बहनो, हमारी अर्थव्यवस्था में, हमारी जीवन व्यवस्था में, Informal Sector बहुत बढ़ा है और ज्यादातर इन लोगों का मज़दूरी का पैसा, काम का पैसा या पगार नग़द में दिया जाता है, Cash में salary दी जाती है और हमें पता है, उसके कारण मजदूरों का शोषण भी होता है। 100 रूपए मिलने चाहिये तो 80 मिलते हैं, 80 मिलने चाहिये तो 50 मिलते हैं और insurance जैसे health sector की दृष्टि से अन्य कई सुविधाएँ होती हैं उससे वो वंचित रह जाते हैं लेकिन अब cashless payment हो रहा है। सीधा पैसा बैंक में जमा हो रहा है। एक प्रकार से Informal Sector formal convert होता जा रहा है, शोषण बंद हो रहा है, cut देना पड़ता था वो cut भी अब बंद हो रहा है और मज़दूर को, कारीगर को, ऐसे ग़रीब व्यक्ति को पूरे पैसे मिलना संभव हुआ है। साथ-साथ अन्य जो लाभ मिलते हैं वे लाभ का भी वो हक़दार बन रहा है। हमारा देश तो सर्वाधिक युवाओं वाला देश है। Technology हमें सहज़ साध्य है। भारत जैसे देश ने तो इस क्षेत्र में सबसे आगे होना चाहिये। हमारे नौजवानों ने Start-Up से काफ़ी प्रगति की है। ये digital movement एक सुनहरा अवसर है हमारे नौजवान नये-नये idea के साथ, नयी-नयी technology के साथ, नयी-नयी पद्धति के साथ इस क्षेत्र को जितना बल दे सकते हैं देना चाहिये, लेकिन देश को काले धन से, भ्रष्टाचार से मुक्त कराने के अभियान में पूरी ताक़त से हमें जुड़ना चाहिये।

मेरे प्यारे देशवासियो, मैं हर महीने ‘मन की बात’ के पहले लोगों से आग्रह करता हूँ कि आप मुझे अपने सुझाव दीजिये, अपने विचार बताइए और हज़ारों की तादाद में MyGov पर और NarendraModiApp पर इस बार जो सुझाव आये, मैं कह सकता हूँ 80-90 प्रतिशत सुझाव भ्रष्टाचार और काले धन के ख़िलाफ़ की लड़ाई के संबंध में आये, नोटबंदी की चर्चा आयी। इन सारी चीज़ों को जब मैंने देखा तो मैं मोटे-मोटे तौर पर कह सकता हूँ कि मैं उसको तीन भागों में विभाजित करता हूँ। कुछ लोगों ने जो मुझे लिखा है, उसमें नागरिकों को कैसी-कैसी कठिनाइयाँ हो रही है, कैसी असुविधायें हो रही हैं। इसके संबंध में विस्तार से लिखा है। लिखने वालों का दूसरा तबक़ा वो है जिन्होंने ज्यादातर उन बातों पर बल दिया है कि इतना अच्छा काम, देश की भलाई का काम, इतना पवित्र काम, लेकिन उसके बावजूद भी कहाँ-कहाँ कैसी-कैसी धांधली हो रही है, किस प्रकार से बेईमानी के नये-नये रास्ते खोज़े जा रहे हैं, इसका भी ज़िक्र लोगों ने किया है। और तीसरा वो तबक़ा है जिन्होंने जो हुआ है, उसका तो समर्थन किया है लेकिन साथ-साथ ये लड़ाई आगे बढ़नी चाहिये। भ्रष्टाचार, काला धन पूर्णतः नष्ट होना चाहिये, इसके लिए और कठोर कदम उठाने चाहिये तो उठाने चाहिये, ऐसा बड़ा ही बल दे करके लिखने वाले लोग भी हैं।

मैं देशवासियों का आभारी हूँ कि इतनी सारी चिट्ठियाँ लिख करके मुझे आपने मदद की है। श्रीमान गुरुमणि केवल ने My Gov पर लिखा है काले धन पर लगाम लगाने का ये कदम प्रसंशा के योग्य है। हम नागरिकों को परेशानी हो रही है, लेकिन हम सब भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहे हैं और इस लड़ाई में हम जो सहयोग दे रहे हैं, उससे हम खुश हैं। हम भ्रष्टाचार, काला धन इत्यादि के खिलाफ़ Military Forces की तरह लड़ रहे हैं। गुरु मणिकेवल जी ने जो बात लिखी है देश के हर कोने में से यही भावना उजागर हो रही है। हम सब इसको अनुभव कर रहे हैं। लेकिन ये बात सही है जब जनता कष्ट झेलती है, तकलीफ झेलती है तो कौन इंसान होगा जिसको पीड़ा न होती हो। जितनी पीड़ा आपको होती है, उतनी ही पीड़ा मुझे भी होती है। लेकिन एक उत्तम ध्येय के लिये, एक उच्च इरादे को पार करने के लिये, साफ नीयत के साथ जब काम होता है तो ये कष्ट के बीच, दुख के बीच, पीड़ा के बीच भी देशवासी हिम्मत के साथ डटे रहते हैं। ये लोग ही असल में Agent of Change बदलाव के पुरोधा हैं। मैं लोगों को एक और कारण के लिये भी धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने न केवल परेशानियाँ उठाई हैं, बल्कि उन चुनिन्दा लोगों को करारा जवाब भी दिया है, जो जनता को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। कितनी सारी अफवाहें फैलाइ गई। भ्रष्टाचार और काले धन जैसी लड़ाई को भी साम्प्रदायिकता के रंग से रंगने का भी कितना प्रयास किया गया। किसी ने अफवाह फैलाइ नोट पर लिखी Spelling गलत है, किसी ने कह दिया नमक का दाम बढ़ गया है, किसी ने अफवाह चला दी 2000 के नोट भी जाने वाली है, 500 और 100 के भी जाने वाली है, ये भी फिर से जाने वाला है, लेकिन मैंने देखा भाँति-भाँति अफवाहों के बावज़ूद भी देशवासियों के मन को कोई डुला नहीं सका है। इतना ही नहीं, कई लोग मैदान में आए, अपने Creativity के द्वारा , अपने बुद्धि शक्ति के द्वारा अफवाह फैलाने वालों को भी बेनकाब किया, अफवाहों को भी बेनकाब कर दिया और सत्य लाकर के खड़ा कर दिया। मैं जनता के इस सामर्थ्य को भी शत-शत नमन करता हूँ।

मेरे प्यारे देशवासियो, ये मैं साफ अनुभव कर रहा हूँ, हर पल अनुभव कर रहा हूँ। जब सवा-सौ करोड़ देशवासी आपके के साथ खड़े हों तब कुछ भी असंभव नहीं होता है और जनता जनार्दन ही तो ईश्वर का रूप होती है और जनता के आशीर्वाद, ईश्वर के ही आशीर्वाद बन जाते हैं। मैं देश की जनता को धन्यवाद देता हूँ, उन्हें नमन करता हूँ कि भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ इस महायज्ञ में लोगों ने पूरे उत्साह के साथ भाग लिया है। मैं चाहता था कि सदन में भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ जो लड़ाई चल रही है राजनैतिक दलों के लिये भी, Political Funding के लिये भी, व्यापक चर्चा हो। अगर सदन चला होता तो ज़रूर अच्छी चर्चा होती। जो लोग अफवाहें फैला रहे हैं कि राजनैतिक दलों को सब छूट-छाट है, ये गलत है। कानून सब के लिये समान होता है और कानून का पालन भी चाहे व्यक्ति हो, संगठन हो या राजनैतिक दल हो, हर किसी को कानून का पालन करना ही होता है और करना ही पड़ेगा। जो लोग खुल कर के भ्रष्टाचार और काले धन का समर्थन नहीं कर पाते हैं, वे सरकार की कमियाँ ढूंढने के लिए पूरी देर लगे रहते हैं। एक बात ये भी आती है बार-बार नियम क्यों बदलते हैं। ये सरकार जनता-जनार्दन के लिये है। जनता का लगातार feedback लेने का प्रयास सरकार करती है। जनता-जनार्दन को कहाँ कठिनाई हो रही है! किस नियम के कारण दिक्कत आती है! उसका क्या रास्ता खोजा जा सकता है! हर पल सरकार एक सवेंदनशील सरकार होने के कारण जनता-जनार्धन की सुख-सुविधा को ध्यान में रखते हुए जितने भी नियम बदलने पड़ते हैं, बदलती है, ताकि लोगों की परेशानी कम हो। दूसरी तरफ, मैंने पहले ही दिन कहा था, 8 तारीख को कहा था, ये लड़ाई असामान्य है। 70 साल से बेईमानी और भ्रष्टाचार के काले कारोबार में कैसी शक्तियाँ जुड़ी हुई है? उनकी ताक़त कितनी है? ऐसे लोगों से मैंने जब मुकाबला करना ठान लिया है तो वे भी तो सरकार को पराजित करने के लिए रोज नये तरीके अपनाते हैं। जब वो नये तरीके अपनाते हैं तो हमें भी तो उसके काट के लिये नया तरीका अपनाना पड़ता है। तू डाल-डाल, तो मैं पात-पात, क्योंकि हमने तय किया है कि भ्रष्टाचारियों को, काले कारोबारों को, काले धन को, मिटाना है। दूसरी तरफ, कई लोगों के पत्र इस बात को लेकर के आए हैं जिसमें किस प्रकार की धाँधलियां हो रही हैं, किस प्रकार से नये-नये रास्ते खोजे जा रहे हैं इसकी चर्चा है।

मैं प्यारे देशवासियों को एक बात का हृदय से अभिनन्दन करना चाहता हूँ। आज आप लोग टी.वी. पर समाचार-पत्रों में देखते होंगे! रोज़ नये-नये लोग पकड़े जा रहे हैं! नोटें पकड़े जा रहे हैं! छापे मारे जा रहे है! अच्छे-अच्छे लोग पकड़े जा रहे हैं। ये कैसे संभव हुआ है? मैं Secret बता दूँ। Secret ये है कि जानकारियाँ मुझे लोगों की तरफ से मिल रही हैं। सरकारी व्यवस्था से जितनी जानकारी आती है उस से अनेक गुना ज्यादा सामान्य नागरिकों से जानकारियाँ आ रही हैं और ज्यादातर हमें सफलता मिल रही है वो जन-सामान्य की जागरूकता के कारण मिल रही है। कोई कल्पना कर सकता है - मेरे देश का जागरूक नागरिक ऐसे तत्वों को बेनकाब करने के लिए कितना risk ले रहा है और जो जानकारियाँ आ रही हैं उसमें ज्यादातर सफलता मिल रही है। मुझे विश्वास है कि सरकार ने इसके लिये जो एक e-mail address इस प्रकार की ख़बरें देना चाहते हैं उनके लिए बनाया है। उस पर भी भेज सकते हो, MyGov पर भी भेज सकते हो। सरकार ऐसी सारी बुराइयों के साथ लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है और जब आपका सहयोग है तो फिर लड़ना बहुत आसान है।

तीसरे पत्र, लेखकों का ग्रुप ऐसा है, वे भी बहुत बड़ी संख्या में हैं। वो कहते हैं मोदी जी थक मत जाना, रुक मत जाना और जितना कठोर कदम उठा सकते हो, उठाओ, लेकिन अब एक बार रास्ता पकड़ा है तो मंजिल तक पहुंचना ही है। मैं ऐसे पत्र लिखने वाले सब को विशेष रूप से धन्यवाद करता हूँ क्योंकि उनके पत्र में एक प्रकार से विश्वास भी है, आशीर्वाद भी है। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि ये पूर्ण विराम नहीं है, ये तो अभी शुरुआत है, ये जंग जीतना है और थकने का तो सवाल ही कहाँ उठता है, रुकने का तो सवाल ही नहीं उठता है और जिस बात पर सवा-सौ करोड़ देशवासियों का आशीर्वाद हो, उसमें तो पीछे हटने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता है। आपको मालूम होगा हमारे देश में ‘बेनामी संपत्ति’ का एक कानून है। Nineteen Eighty Eight, उन्नीस सौ अठास्सी में बना था, लेकिन कभी भी न उसके Rules बनें, उसको Notify नहीं किया, ऐसे ही वो ठंडे बस्ते में पड़ा रहा। हमनें उसको निकाला है और बड़ा धार-धार ‘बेनामी संपत्ति’ का कानून हमने बनाया है। आने वाले दिनों में वो कानून भी अपना काम करेगा। देशहित के लिये, जनहित के लिये, जो भी करना पड़े, ये हमारी प्राथमिकता है।

मेरे प्यारे देशवासियो, पिछली बार भी ‘मन की बात’ में मैंने कहा था कि इन कठिनाइयों के बीच भी हमारे किसानों ने कड़ी मेहनत कर के ‘बुवाई’ में पिछले साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। कृषि क्षेत्र के दृष्टि से ये शुभ संकेत हैं। इस देश का मजदूर हो, इस देश का किसान हो, इस देश का नौजवान हो इन सब के परिश्रम आज नये रंग ला रहे हैं। पिछले दिनों विश्व के ‘अर्थ मंच’ पर भारत ने अनेक क्षेत्र में अपना नाम बड़े गौरव के साथ अंकित करवाया है। हमारे देशवासियों के लगातार प्रयासों का परिणाम है कि अलग-अलग Indicators के ज़रिये अलग-अलग Indicators के ज़रिये भारत की वैश्विक ranking में बढ़ोतरी दिखाई दे रही है। World Bank की doing business report में भारत की ranking बढ़ी है। हम भारत में business practices को दुनिया के best Practices के बराबर बनाने का तेज़ी से प्रयास कर रहे हैं और सफलता मिल रही है। UNCTAD उसके द्वारा जारी world Investment report के अनुसार top prospective host economies for 2016-18 में भारत का स्थान तीसरा पहुँच गया है। World Economic Forum के global competitiveness Report में भारत ने 32 Rank की छलांग लगाई है। Global Innovation Index 2016 में हमने 16 स्थानों की बढ़त हासिल की है और World Bank के Logistics Performance Index 2016 में 19 rank की बढ़ोतरी हुई है। कई report ऐसे हैं जिसके मूल्यांकन भी इसी ओर इशारा करते हैं। भारत तेज़ी से आगे बढ़ रहा है ।

मेरे प्यारे देशवासियो, इस बार संसद का सत्र देशवासियों की नाराज़गी का कारण बना, चारों तरफ संसद के गतिविधि के संबंध में रोष प्रकट हुआ। राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति जी ने भी प्रकट रूप से नाराज़गी व्यक्त की, लेकिन इस हालत में भी, कभी-कभी कुछ अच्छी बात भी हो जाती है और तब मन को एक बहुत संतोष मिलता है। संसद के हो-हल्ले के बीच एक ऐसा उत्तम काम हुआ जिसकी तरफ देश का ध्यान नहीं गया है। भाइयो-बहनो, आज मुझे इस बात को बताते हुए गर्व और हर्ष की अनुभूति हो रही है कि दिव्यांग-जनों पर जिस Mission को ले करके मेरी सरकार चली थी, उससे जुड़ा एक बिल संसद में पारित हो गया, इसके लिये मैं लोकसभा और राज्यसभा के सभी सांसदों का आभार व्यक्त करता हूँ, देश के करोड़ों दिव्यांग-जनों की तरफ से आभार व्यक्त करता हूँ। दिव्यांगों के लिए हमारी सरकार Committed है। मैंने निजी-तौर पर भी इसे लेकर मुहिम को गति देने की कोशिश भी की है। मेरा इरादा था, दिव्यांग-जनों को उनका हक़ मिले, सम्मान मिले, जिसके वो अधिकारी हैं। हमारे प्रयासों और भरोसों को हमारे दिव्यांग भाई-बहनों ने उस वक़्त और मजबूती दी जब वे Paralympics में चार Medal जीत करके ले आये, उन्होंने अपनी जीत से न केवल देश का मान बढ़ाया बल्कि अपनी क्षमता से लोगों को आश्चर्य चकित भी कर दिया। हमारे दिव्यांग भाई-बहन भी देश के हर नागरिक की तरह हमारी एक अनमोल विरासत है, अनमोल शक्ति है। मैं आज बेहद खुश हूँ कि दिव्यांग-जनों के हित के लिए ये कानून पास होने के बाद दिव्यांगों के पास नौकरी के ज्यादा अवसर होंगे। सरकारी नौकरियों में आरक्षण की सीमा बढ़ा करके 4% कर दी गयी है। इस कानून से दिव्यांगो की शिक्षा, सुविधा और शिकायतों के लिए विशेष प्रावधान भी किये गए हैं। दिव्यांगों को ले करके सरकार कितनी संवेदनशील है इसका अंदाज़ आप इस बात से लगा सकते हैं कि केंद्र सरकार ने पिछले दो वर्ष में दिव्यांग-जनों के लिए चार हज़ार तीन सौ पचास कैंप लगाए। तीन सौ बावन करोड़ रूपयों की राशि खर्च करके पाँच लाख अस्सी हज़ार दिव्यांग भाई-बहनों को उपकरण बाँटे। सरकार ने United Nation की भावना के अनुरूप ही नया कानून पारित किया है। पहले दिव्यांगों की श्रेणी सात प्रकार की हुआ करती थी, लेकिन अब कानून बना करके उसे इक्कीस प्रकार की कर दी गई हैं। इसमें चौदह नई श्रेणियाँ और जोड़ दी हैं। दिव्यांगों की कई ऐसी श्रेणियाँ शामिल की गयी हैं जिसे पहली बार न्याय मिला है, अवसर मिला है। जैसे- Thalassemia, Parkinson’s, या फिर बौनापन, ऐसे क्षेत्रों को भी इस श्रेणी के साथ जोड़ दिया गया है। मेरे युवा साथियो, पिछले कुछ हफ्तों में खेल के मैदान में ऐसी ख़बरें आईं जिसने हम सब को गौरवान्वित कर दिया। भारतीय होने के नाते हम सब को गर्व होना बहुत स्वाभाविक है। भारतीय cricket टीम की इंग्लैंड के खिलाफ़ चार शून्य से सीरीज में जीत हुई है। इसमें कुछ युवा खिलाड़ियों की Performance काबिले तारीफ़ रही। हमारे नौजवान करुण नायर ने Triple Century लगाई, तो, के.एल. राहुल ने 199 रनों की पारी खेली। टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने तो अच्छी batting के साथ-साथ अच्छा नेतृत्व भी दिया। भारतीय क्रिकेट टीम के off-spinner गेंदबाज आर. अश्विन को ।CC ने वर्ष 2016 का ‘Cricketer Of The Year’ और ‘Best Test Cricketer’ घोषित किया है। इन सब को मेरी बहुत-बहुत बधाईयाँ, ढेर सारी शुभकामनायें। हॉकी के क्षेत्र में भी पंद्रह साल के बाद बहुत अच्छी खबर आई, शानदार खबर आई। Jun।or Hockey Team ने World Cup पर कब्ज़ा कर लिया। पंद्रह साल के बाद ये मौका आया है जब Jun।or Hockey Team ने World Cup जीता। इस उपलब्धि के लिये नौजवान खिलाड़ियों को बहुत-बहुत बधाई। ये उपलब्धि भारतीय हॉकी टीम के भविष्य के लिये शुभ संकेत है। पिछले महीने हमारी महिला खिलाड़ियों ने भी कमाल करके दिखाया। भारत की महिला हॉकी टीम ने As।an Champions Trophy भी जीती और अभी-अभी कुछ ही दिन पहले Under 18 As।a Cup भारत की महिला हॉकी टीम ने Bronze Medal हासिल किया। मैं क्रिकेट और हॉकी टीम के सभी खिलाड़ियों को ह्रदय से बहुत-बहुत अभिनन्दन करता हूँ।

मेरे प्यारे देशवासियो, 2017 का वर्ष नई उमंग और उत्साह का वर्ष बने, आपके सारे संकल्प सिद्ध हों, विकास की नई ऊँचाइयों को हम पार करें। सुख चैन की ज़िन्दगी जीने के लिए ग़रीब से ग़रीब को अवसर मिले, ऐसा हमारा 2017 का वर्ष रहे। 2017 के वर्ष के लिये मेरी तरफ से सभी देशवासियों को अनेक-अनेक शुभकामनायें। बहुत-बहुत धन्यवाद।

About Sanjay Trivedi

Sanjay Trivedi is honorary editor of Asia Times. He is senior Indian Journalist having vast experience of 25 years. He worked in Janmabhoomi, Vyapar, Divya Bhaskar etc. newspapers and TV9 Channel as well as www.news4education.com. He is working as Media Officer in Gujarat Technological University, which has 440 colleges under its umbrella.

Check Also

Strategies to contain Diabetes and Hypertension in India

New Delhi: Ministry of Health & Family Welfare, through the International Institute for Population Sciences, Mumbai, …